स्ट्रेप्टोमाइसीस

स्ट्रेप्टोमाइसीस (Streptomyces) ऐक्टीनोबैक्टीरिया का सबसे विस्तृत जीववैज्ञानिक वंश है, और इसमें 500 से अधिक बैक्टीरिया जातियाँ सम्मिलित हैं, जिन्हें सामूहिक रूप से स्ट्रेप्टोमाइसीट (streptomycetes) कहा जाता है।[1] अन्य ऐक्टीनोबैक्टीरिया की तरह स्ट्रेप्टोमाइसीट भी ग्राम-धनात्मक होते हैं, और इनके जीनोम में गुआनिन-साइटोसिन की मात्रा अधिक पाई जाती है। स्ट्रेप्टोमाइसीट मिट्टी और अपघटित होते वनस्पतियों में बहुत मिलते हैं। अपने प्रजनन और फैलाव के लिए यह बीजाणु (स्पोर) बनाते हैं, जिनमें जियोस्मिन (geosmin) नामक रसायन की मौजूदगी के कारण एक स्पष्ट "मिट्टी-जैसी" गंध आती है।[2]

स्ट्रेप्टोमाइसीस
Streptomyces
सूक्ष्मदर्शी में एक स्ट्रेप्टोमाइसीस नमूना
वैज्ञानिक वर्गीकरण
अधिजगत: बैकटीरिया (Bacteria)
अश्रेणीत: टेराबैक्टीरिया (Terrabacteria)
संघ: ऐक्टीनोबैक्टीरिया (Actinobacteria)
वर्ग: ऐक्टीनोबैक्टीरिया (Actinobacteria)
गण: ऐक्टीनोमाइसीटालीस (Actinomycetales)
कुल: स्ट्रेप्टोमाइसीटेसी (Streptomycetaceae)
वंश: स्ट्रेप्टोमाइसीस (Streptomyces)
वॉक्समेन व हेनरीकी, 1943
जातियाँ

550 जातियों से अधिक

स्ट्रेप्टोमाइसीट चिकित्साशास्त्र और औषधशास्त्र में बहुत महत्वपूर्ण हैं। बैक्टीरिया संक्रमण (इनफ़ेक्शन) के उपचार में प्रयोग होने वाले प्राकृतिक स्रोतों से उपलब्ध दो-तिहाई प्रतिजैविक (ऐंटीबायोटिक) स्ट्रेप्टोमाइसीट द्वारा निर्मित होते हैं, जिसमें नियोमाइसिन, सिपेमाइसिन, ग्रिपेमाइसिन, बोट्रोमाइसिन और क्लोरम्फ़ेनिकोल शामिल हैं। प्रसिद्ध स्ट्रेप्टोमाइसिन नामक प्रतिजैविक दवाई स्ट्रेप्टोमाइसीट द्वारा ही बनाई जाती थी और इसका नाम इसी बैक्टीरिया पर रखा गया था, हालांकि अब इसे कम प्रयोग किया जाता है। अधिकांश स्ट्रेप्टोमाइसीट रोगजनक नहीं हैं, हालांकि कुछ जातियाँ मानवों में रोग की कारण होती हैं।[3][4]

इन्हें भी देखें

सन्दर्भ

  1. Kämpfer, Peter (2006). "The Family Streptomycetaceae, Part I: Taxonomy". In Dworkin, Martin; Falkow, Stanley; Rosenberg, Eugene et al.. The Prokaryotes. पृ॰ 538–604. doi:10.1007/0-387-30743-5_22. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-387-25493-7. https://books.google.com/books?id=swciHNNWZDEC&pg=PA538.
  2. Brock Biology of Microorganisms (11th सं॰). Prentice Hall. 2005. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-13-144329-1.
  3. Practical Streptomyces Genetics (2nd सं॰). Norwich, England: John Innes Foundation. 2000. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7084-0623-8.
  4. Understanding and manipulating antibiotic production in actinomycetes
This article is issued from Wikipedia. The text is licensed under Creative Commons - Attribution - Sharealike. Additional terms may apply for the media files.