सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम अथवा सार्स (हिन्दी: अति तीव्र श्वसन परिलक्षण) सार्स कोरोनावाइरस द्वारा जनित श्वसन से संबंधित रोग है।[1] नवम्बर २००२ और जुलाई २००३ के बीच, दक्षिणी चीन में सार्स रोग प्रकोप आरम्भ हुआ जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न देशों में 8273 लोग संक्रमित हुए एवं 775 लोगों की मृत्यु हो गयी थी, इसमें सबसे अधिक संख्या हाँगकांग की रही।[2] विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार (9.6% मृत्यु)।[3] २००३ के पूर्वार्द्ध में कुछ ही सप्ताह में सार्स विभिन्न ३७ देशों के व्यक्तियों में फैल गया।[4]

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
सार्स कोरोनावाइरस (SARS-CoV) प्रेरित परिलक्षण
आईसीडी-१० U04.
आईसीडी- 079.82
डिज़ीज़-डीबी 32835
मेडलाइन प्लस 007192
ईमेडिसिन med/3662 
एम.ईएसएच D045169

प्रभावित देश

इस रोग की शुरुआत एक अंतरराष्ट्रीय व्यापारी चेन से हुई जो वियतनाम आने से पहले हॉन्ग कॉन्ग में रुके थे।[5]

देशमौतेंप्रभावित
चीन3495327
हाँगकांग2991799
कनाडा43251
ताइवान37346
सिंगापुर33238
वियतनाम563
मलेशिया25
फ़िलीपीन्स214
थाईलैंड29
फ्रांस17
दक्षिण अफ्रीका11

सन्दर्भ

  1. थिएल वी, सं (2007) (अंग्रेज़ी में). Coronaviruses: Molecular and Cellular Biology [कोरोनावाइरस: आण्विक और कोशिका जीवविज्ञान] (प्रथम सं॰). कैस्टर अकादमिक प्रेस. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-904455-16-5. http://www.horizonpress.com/cor.
  2. "Summary of probable SARS cases with onset of illness from 1 नवम्बर 2002 to 31 जुलाई 2003 [१ नवम्बर २००२ से ३१ जुलाई २०१३ के मध्य सम्भावित सार्स रोग के शिकार]" (अंग्रेज़ी में). विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ). http://www.who.int/csr/sars/country/table2004_04_21/en/index.html.
  3. "Summary of probable SARS cases with onset of illness from 1 नवम्बर 2002 to 31 जुलाई 2003". (डब्ल्यूएचओ. http://www.who.int/csr/sars/country/table2004_04_21/en/index.html. अभिगमन तिथि: १९ अगस्त २०१३.
  4. स्मिथ, आर॰ डी॰ (2006). "Responding to global infectious disease outbreaks, Lessons from SARS on the role of risk perception, communication and management" (अंग्रेज़ी में). सोशल साइंस एंड मेडिसिन 63 (12): 3113–3123. doi:10.1016/j.socscimed.2006.08.004. PMID 16978751.
  5. डॉक्टर केविन फॉन्ग (18 अगस्त 2013). "वे डॉक्टर जिन्होंने दुनिया की जान बचाई". ब्रॉडकास्टर. http://www.bbc.co.uk/hindi/science/2013/08/130816_sars_salute_dr_nurses_rd.shtml. अभिगमन तिथि: 19 अगस्त 2013.

बाहरी कड़ियाँ

This article is issued from Wikipedia. The text is licensed under Creative Commons - Attribution - Sharealike. Additional terms may apply for the media files.