शिरस्य सूचकांक

शीर्षाभिसूचक (Cephalic Index) वह अंक है, जो खोपड़ी की चौड़ाई को लंबाई से भाग देने पर प्राप्त भाग फल में 100 से गुणा करने पर प्राप्त होता है।

खोपड़ी की चौड़ाई कानों के ठीक ऊपर मापी जाती है और लंबाई भ्रूमध्य (glabella) से लेकर पश्चकपाल के उदग्र बिंदु तक मापी जाती है। शीर्षाभिसूचक, यदि 75 से कम होता है, तो सिर या खोपड़ी दीर्घशिरस्क (dolichocephalic), यदि 75 से 80 के मध्य होता है, तो खोपड़ी मध्यशिरस्क (mesaticepholic) तथा यदि 80 या इससे अधिक होता है, तो खोपड़ी लघुशिरस्क (brachycephalic), कहलाती है।

स्वीडन के ए.ए. रेत्सिअस (A.A. Retzius) नामक मानवशास्त्री ने इस अंक का सुझाव दिया था। मानव की विभिन्न प्रजातियों में विभेद करने में शीर्षाभिसूचक बड़ा उपयोगी सिद्ध हुआ है। मानव जाति में यह अंक 60 से 100 तक पाया जाता है। खोजों से सिद्ध हो गया है कि शीर्षाभिसूचक वातावरण से बहुत प्रभावित होता है। अत: अब इस अंक का उपयोग बहुत कम किया जाता है। यह कपालीय सूचक (Cranial index) से, जो केवल कपाल की माप से संबंध रखता है, भिन्न होता है।

This article is issued from Wikipedia. The text is licensed under Creative Commons - Attribution - Sharealike. Additional terms may apply for the media files.