खरोंच

खरोंच चमड़ी की उपरी सतह पर लगी चोट को कहते हैं। यह चोंट सड़क पर गिरने से, घसीटने से, किसी चीज़ से रगड़ जाने से आ सकती है।[1]

हाथों में खरोंच 20050906

खरोंच के प्रकार

  1. खुरचन खरोच:- इस खरोच में एक सीढ़ी लाइन में रगड़ लगती है और यह किसी पिन से, नाख़ून से, सुई आदि से लगती है।
  2. मंद्घर्शन खरोंच:- सड़क पर हुई दुर्घटना में यह खरोंचे लगती है, जिसमे प्रारंभ में रगड़ साफ़ दिखाई देती है और अंत में साडी चमड़ी इक्कठी हो जाती है।
  3. दाब खरोंच:- किसी भरी वस्तु के दबाव के कारण चमड़ी कुचल जाती है तो उसे दाब खरोंच कहते है।
  4. टक्कर खरोंच:- जब शरीर का कोई भाग किसी खुरदरी सतह से टकराता है तब ऐसे चोंट लगती है।

आयुर्विज्ञानी बिंदु

  • चोंट का स्वभाव ज्ञात हो सकता है।
  • चोंट किस दिशा में लगी है यह ज्ञात किया जा सकता है।
  • खरोंच के स्थान से अपराध की प्रकृति ज्ञात की जा सकती है।

सन्दर्भ

  1. Kidd, P. S., Sturt, P. A., & Fultz, J. (2000). Mosby's emergency nursing reference (2nd ed.). St. Louis: Mosby, Inc.

संबंधित पृष्ठ

This article is issued from Wikipedia. The text is licensed under Creative Commons - Attribution - Sharealike. Additional terms may apply for the media files.